30.3 C
New York
Thursday, June 20, 2024

Buy now

spot_img

िल्ली की हवा बनी दुनिया सबसे दूषित हवा,जिससे लाखो लोग हो रहे बीमार

िल्ली-एनसीआर में हवा की गुणवत्ता कई वर्षों से गंभीर चिंता का विषय बनी हुई है। पार्टिकुलेट मैट, नाइट्रोजन डाइऑक्साइड और ओजोन जैसे खतरनाक रूप से उच्च स्तर के वायु प्रदूषकों के साथ इस क्षेत्र को लगातार दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में से एक के रूप में स्थान दिया गया है। प्रदूषण के इस खतरनाक स्तर ने न केवल सामान्य आबादी के स्वास्थ्य पर असर डाला है, बल्कि गर्भवती महिलाओं और शिशुओं के लिए भी गंभीर खतरा पैदा कर दिया है।

डॉक्टरों के अनुसार, दिल्ली-एनसीआर का वायु प्रदूषण न केवल गर्भवती महिलाओं और शिशुओं के लिए हानिकारक है, बल्कि यह उनके स्वास्थ्य और कल्याण पर स्थायी प्रभाव डाल सकता है। उन्होंने चेतावनी दी है कि क्षेत्र की जहरीली हवा गर्भावस्था के दौरान विभिन्न जटिलताओं का कारण बन सकती है और नवजात शिशुओं के स्वास्थ्य पर दीर्घकालिक प्रभाव डाल सकती है।

मिंट की रिपोर्ट के अनुसार, सर गंगा राम अस्पताल के वरिष्ठ बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. धीरेन गुप्ता ने कहा, “एक बार जब आप गर्भावस्था में उजागर हो जाते हैं, तो इस बात की बहुत अधिक संभावना होती है कि अजन्मे नवजात शिशु को बाद में एलर्जी होगी। उन्होंने यह भी कहा, आजकल हर सड़क धूम्रपान क्षेत्र की तरह है। यह न केवल उन रोगियों को प्रभावित करता है जिन्हें एलर्जी है या अस्थमा है बल्कि सामान्य लोगों को भी प्रभावित करता है।

बीएलके-मैक्स सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल के छाती और श्वसन रोग के प्रधान निदेशक डॉ. संदीप नायर ने कहा, “यह एक गैस चैंबर है। अगर आप बाहर जाते हैं, तो हर किसी की आंखों में जलन और गले में दर्द होता है। हमारी ओपीडी ने गोली मार दी है।” 20-30 प्रतिशत तक। जब जहरीली हवा शरीर में जाएगी, तो यह हर अंग को प्रभावित करेगी।

गर्भावस्था माँ और विकासशील भ्रूण दोनों के लिए एक महत्वपूर्ण अवधि है। इस दौरान प्रदूषक तत्वों के संपर्क में आने से दोनों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। दिल्ली-एनसीआर की जहरीली हवा में हानिकारक रसायन और कण होते हैं जो गर्भवती महिलाओं के श्वसन तंत्र के माध्यम से उनके रक्तप्रवाह में आसानी से प्रवेश कर सकते हैं। ये प्रदूषक प्लेसेंटा के माध्यम से विकासशील भ्रूण तक पहुंच सकते हैं, जिससे विभिन्न जटिलताएं पैदा हो सकती हैं।नवजात शिशु और छोटे शिशु वायु प्रदूषण के हानिकारक प्रभावों के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं क्योंकि उनके फेफड़े और प्रतिरक्षा प्रणाली अभी भी विकसित हो रहे होते हैं। दिल्ली-एनसीआर की जहरीली हवा उनके नाजुक शरीर पर गंभीर प्रभाव डाल सकती है, जिससे विभिन्न स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

वायु प्रदूषण के संपर्क में आने से शिशुओं में अस्थमा, ब्रोंकाइटिस और निमोनिया जैसी श्वसन संबंधी बीमारियाँ होती हैं। हवा में मौजूद छोटे कण आसानी से उनके फेफड़ों में प्रवेश कर सकते हैं और श्वसन तंत्र में सूजन और क्षति पैदा कर सकते हैं, जिससे उन्हें श्वसन संक्रमण होने का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा, जो शिशु अपने जीवन के पहले वर्ष के दौरान उच्च स्तर के वायु प्रदूषण के संपर्क में आते हैं, उन्हें बाद में जीवन में पुरानी श्वसन संबंधी बीमारियों के विकसित होने का अधिक खतरा होता है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles