23 C
Mumbai
Saturday, February 24, 2024

इस्कॉन धर्म के आड़ में अधर्म का कार्य करता है, गायों को कसाइयों के हाथों बेचता है – मेनका गांधी

हाल ही में केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था जिस वह कह रही थी की इस्कॉन गायों को कसाई के हाथ बेचता है।दरअसल, इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर कृष्णा कॉन्शसनेस (इस्कॉन) ने मंगलवार को भाजपा सांसद मेनका गांधी के आरोपों का खंडन किया, जिन्होंने दावा किया था कि धार्मिक समूह गायों को कसाई को बेचता है। इस्कॉन की कड़ी प्रतिक्रिया का उद्देश्य इन आरोपों का प्रतिकार करना और गाय संरक्षण के प्रति अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि करना है।

हाल ही में इंटरनेट पर वायरल हो रहे एक वीडियो में मेनका गांधी ने कहा कि गौशाला स्थापित करने की आड़ में इस्कॉन को व्यापक भूमि सहित सरकारी लाभ मिलते हैं। इसके बाद उन्होंने आरोप लगाया कि अनंतपुर गौशाला के दौरे के दौरान उन्हें कोई सूखी गाय या बछड़ा नहीं मिला, जिससे पता चलता है कि सभी गायें कसाईयों को बेच दी गई थीं। वायरल वीडियो के जवाब में, इस्कॉन ने स्पष्ट रूप से दावों को अप्रमाणित और झूठी जानकारी करार दिया। उन्होंने गौरक्षा के प्रति अपने समर्पण पर जोर दिया और 60 से अधिक गौशालाओं के संचालन पर प्रकाश डाला, जहां सैकड़ों गाय और बैल जीवन भर देखभाल करते हैं।

इस्कॉन ने आरोपों के खिलाफ मजबूत बचाव पेश किया। उन्होंने दावों का खंडन करने के लिए सबूत के तौर पर अनंतपुर गौशाला के संबंध में एक पशु चिकित्सक का पत्र, स्थानीय सांसद और विधायक की मूल्यांकन रिपोर्ट और एक वीडियो भी साझा किया।वही इस्कॉन इंडिया के संचार निदेशक, युधिष्ठिर गोविंदा दास ने इन जानवरों के कल्याण के प्रति अपनी प्रतिबद्धता पर जोर देते हुए दोहराया कि इस्कॉन की देखरेख में आने वाली गायों और बैलों को कसाइयों को नहीं बेचा जाता है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles