29 C
Mumbai
Friday, February 23, 2024

मणिपुर सरकार ने हिंसा की वजह से अधिकतर क्षेत्रों को अशांत क्षेत्र किया घोषित

देश का पूर्वोत्तर राज्य मणिपुर पिछले चार महीनों से जातीय हिंसा की आग में झुलस रहा है,जिसमे पूरे राज्य की आबादी पर गहरा असर पड़ा है और इतिहास के पन्नो में यह दर्ज होगा की मणिपुर के लोग जब हिंसा की वजह से डर के शाए में रह रहे हो तब वही राज्य सरकार ने अशांत क्षेत्र घोषित किया है।दरअसल, मणिपुर राज्य सरकार ने बुधवार को जारी कानून और व्यवस्था के मुद्दों के कारण आधिकारिक तौर पर पूरे राज्य को अशांत क्षेत्र के रूप में नामित किया है। दी गई जानकारी के मुताबिक, 19 विशिष्ट पुलिस थाना क्षेत्रों को छोड़कर पूरे राज्य को अशांत क्षेत्र के रूप में वर्गीकृत किया गया है।

राज्य सरकार द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार, उनका मानना है कि विभिन्न चरमपंथी/विद्रोही समूहों की हिंसक गतिविधियों के कारण पूरे मणिपुर राज्य में नागरिक प्रशासन की सहायता के लिए सशस्त्र बलों के उपयोग की आवश्यकता है।

अशांत के रूप में नामित क्षेत्रों में राज्य के भीतर विभिन्न स्थान शामिल हैं, जैसे राज्य की राजधानी इम्फाल, साथ ही लाम्फेल, शहर, सिंगजामेई, सेकमाई, लामासांग, पाटसोई, वांगोई, पोरोम्पैट, हेइंगांग, लामलाई, इरिलबुंग, लीमाखोंग, थौबल, बिष्णुपुर, नंबोल, मोइरांग, काकचिंग और जिरीबाम।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles