10.8 C
New York
Thursday, April 11, 2024

Buy now

spot_img

मिजोरम ने एबीडीएम माइक्रोसाइट संचालित करने वाला भारत का पहला राज्य बना

राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (एनएचए) ने देश भर में आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (एबीडीएम) को त्वरित रूप से अपनाने के लिए 100 माइक्रोसाइट्स परियोजना की घोषणा की थी। मिजोरम अपनी राजधानी आइजोल में एबीडीएम माइक्रोसाइट संचालित करने वाला भारत का पहला राज्य बन गया है। इसके तहत, क्षेत्र में निजी क्लीनिकों, छोटे अस्पतालों और प्रयोगशालाओं सहित सभी स्वास्थ्य सुविधाओं को एबीडीएम-सक्षम बनाया जाएगा और मरीजों को डिजिटल स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जाएंगी। परियोजना के महत्व पर बोलते हुए, सीईओ, एनएचए ने कहा, एबीडीएम के तहत 100 माइक्रोसाइट परियोजना निजी क्षेत्र के बड़े पैमाने पर छोटे और मध्यम स्तर के स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं तक पहुंचने के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण पहल है।

माइक्रोसाइट्स की अवधारणा की परिकल्पना देश भर में स्वास्थ्य देखभाल डिजिटलीकरण प्रयासों को एक मजबूत प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए की गई थी। मिजोरम टीम के प्रयासों के परिणामस्वरूप आइजोल भारत में पहला एबीडीएम माइक्रोसाइट बन गया है। एनएचए अन्य राज्य टीमों से भी इसी तरह की उत्साहपूर्ण प्रतिक्रिया की आशा करता है।

23 अगस्त 2023 को आइजोल में माइक्रोसाइट लॉन्च इवेंट में, एच एंड एफडब्ल्यू मिजोरम की अतिरिक्त सचिव सुश्री बेट्सी ज़ोथनपारी सेलो ने कहा, “हम दृढ़ता से मानते हैं कि स्वास्थ्य सेवाओं का डिजिटलीकरण हमें सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज के हमारे लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद कर सकता है।

हमारी स्वास्थ्य सुविधाओं में डिजिटल सेवाओं और डिजिटल स्वास्थ्य रिकॉर्ड तक सुरक्षित पहुंच के साथ, रोगियों को सबसे अधिक लाभ होगा। हमारी टीमों ने एबीडीएम सक्षमता की प्रक्रिया का बारीकी से अध्ययन करने के लिए सचेत प्रयास किए हैं और आइजोल में हमारी पहली माइक्रोसाइट को संचालित करने के लिए एक कार्यान्वयन भागीदार का चयन किया है। हम सभी कार्यान्वयन को मिशन मोड में लेने के लिए तैयार हैं और यह सुनिश्चित करते हैं कि आइजोल माइक्रोसाइट देश में पहली एबीडीएम माइक्रोसाइट के रूप में अपनी भूमिका निभाए।

एबीडीएम माइक्रोसाइट्स परिभाषित भौगोलिक क्षेत्र हैं जहां छोटे और मध्यम स्तर के निजी स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं को शामिल करने के लिए केंद्रित आउटरीच प्रयास किए जाएंगे। इन माइक्रोसाइट्स को मुख्य रूप से एबीडीएम के राज्य मिशन निदेशकों द्वारा कार्यान्वित किया जाएगा, जबकि वित्तीय संसाधन और समग्र मार्गदर्शन एनएचए द्वारा प्रदान किया जाएगा। इस कार्यक्रम के तहत एक इंटरफेसिंग एजेंसी के पास क्षेत्र में स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं तक पहुंचने के लिए एक ऑन-ग्राउंड टीम होगी।

मरीज़ इन सुविधाओं पर उत्पन्न स्वास्थ्य रिकॉर्ड को अपने आयुष्मान भारत स्वास्थ्य खातों (एबीएचए) के साथ लिंक करने में सक्षम होंगे और अपने फोन पर किसी भी एबीडीएम-सक्षम व्यक्तिगत स्वास्थ्य रिकॉर्ड (पीएचआर) एप्लिकेशन का उपयोग करके इन रिकॉर्ड को देख और साझा कर सकेंगे (https: //phr.abdm.gov.in/uhi/1231).

एनएचए ने पहले मुंबई, अहमदाबाद और सूरत में माइक्रोसाइट्स पायलटों की देखरेख की थी। इन पायलटों से मिली सीख और अनुभवों को एबीडीएम के तहत 100 माइक्रोसाइट्स परियोजना की समग्र संरचना में शामिल किया गया है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles